P-ISSN: 2789-1607, E-ISSN: 2789-1615
Printed Journal   |   Refereed Journal   |   Peer Reviewed Journal

International Journal of Literacy and Education

2022, Vol. 2, Issue 2, Part A

सरकारी एवं गैर सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत् प्राध्यापकों की संगठनात्मक तनाव की भूमिका का तुलनात्मक अध्ययन


Author(s): सीमा श्रीवास्तव

Abstract: वर्तमान समय में शैक्षिक संस्थान प्रशासन अपने संकाय सदस्यों को कीमती संपत्ति के रूप में मानता है और हमेशा संकाय को बनाए रखने और विकसित करने के लिए काम करता है क्योंकि किसी भी संस्थान की सफलता उसके कर्मचारियों की गुणवत्ता पर निर्भर करती है, कर्तव्यनिष्ठ कर्मचारी संस्था के मूल्यों, सिद्धांतों, परंपराओं और विश्वासों का पालन करते हैं, और इस तरह संस्था के विकास में महत्वपूर्ण योगदान देते हैं। जो कर्मचारी कर्तव्यनिष्ठ होते हैं वे अधिक व्यस्त और अपने काम के प्रति समर्पित होते हैं। शिक्षकों की कर्तव्यनिष्ठा और ईमानदारी समाज में सहयोग और एकता की भावना को बढ़ावा देती है, जो अंततः राष्ट्र को विकास की ओर ले जाती है परन्तु जब नौकरी मंे दबाव कर्मचारियों की क्षमताओं से अधिक हो जाता है, तो वे अपने इष्टतम पर प्रदर्शन करने में सक्षम नहीं हो पाते हैं। ऐसी स्थिति में कर्मचारिया में मानसिक और शारीरिक तनाव बढ. जाता है इससे अक्सर कार्यकर्ताओं में नाराजगी की भावना पैदा होती है और यह संगठनात्मक व्यवहार में तनाव की भूमिका को भी दर्शाता है। उक्त को ध्यान में रखते हुए शोधकत्री ने सरकारी एवं गैर सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत् प्राध्यापकों के लिंग, संस्थान व पद के आधार पर उनकी संगठनात्मक तनाव की भूमिका का तुलनात्मक अध्ययन किया और पाया कि सरकारी एवं गैर सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत् प्राध्यापकों के लिंग के आधार पर उनकी संगठनात्मक तनाव की भूमिका में कोई सार्थक अन्तर नहीं है। परन्तु पुरुष प्राध्यापकों की अपेक्षा महिला प्राध्यापकों में संगठनात्मक भूमिका तनाव अधिक पाया गया। जबकि सरकारी एवं गैर सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत् प्राध्यापकों के संस्था के प्रकार के आधार पर उनकी संगठनात्मक तनाव की भूमिका में कोई सार्थक अन्तर नहीं है। सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत् प्राध्यापकों की अपेक्षा एवं गैर सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत् प्राध्यापकों में संगठनात्मक भूमिका तनाव अधिक पाया गया परन्तु सरकारी एवं गैर सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत् प्राध्यापकों के पद के आधार पर उनकी संगठनात्मक तनाव की भूमिका में कोई सार्थक अन्तर नहीं है। परन्तु सरकारी एवं गैर सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत अन्य की अपेक्षा सहायक प्राध्यापकों में संगठनात्मक भूमिका तनाव अधिक पाया गया हैै।

Pages: 40-43 | Views: 22 | Downloads: 10

Download Full Article: Click Here
How to cite this article:
सीमा श्रीवास्तव. सरकारी एवं गैर सरकारी महाविद्यालयों में कार्यरत् प्राध्यापकों की संगठनात्मक तनाव की भूमिका का तुलनात्मक अध्ययन. Int J Literacy Educ 2022;2(2):40-43.
International Journal of Literacy and Education